उत्तर प्रदेश भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड

श्रम विभाग, उत्तर प्रदेश सरकार

उ0प्र0 भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड

भवन एवं सन्निर्माण कार्यों में संलग्न श्रमिकों के जीवन स्तर में गुणात्मक सुधार लाने के उद्देश्य से भारत सरकार द्वारा भवन एवं सन्निर्माण (नियोजन तथा सेवाशर्त विनियमन) अधिनियम, 1996 तथा भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण उपकर अधिनियम,1996 लागू किया गया है, जिसके क्रम में उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा 04 फरवरी, 2009 को उत्तर प्रदेश नियमावली प्रख्याति की जा चुकी है। अधिनियम में मुख्यतः तीन प्रकार की कार्यवाही की जानी है-

  1. निर्माण स्थलों का पंजीयन
  2. निर्माण श्रमिकों का पंजीयन
  3. निर्माण श्रमिकों के हितार्थ योजनायें लागू करना और उन्हें क्रियान्वित करना

निर्माण स्थलों का पंजीयन

प्रदेश में माह जनवरी 2016 तक कुल 98,445 निर्माण स्थलों का पंजीयन किया जा चुका है। वर्षवार तुलनात्मक विवरण निम्नवत् है।

अधिष्ठानों के पंजीयन का वित्तीय वर्षवार विवरण-

वित्तीय वर्ष 2009-10 931
वित्तीय वर्ष 20010-11 5260
वित्तीय वर्ष 2011-12 11,104
वित्तीय वर्ष 2012-13 9760
वित्तीय वर्ष 2013-14 19,029
वित्तीय वर्ष 2014-15 26,854
वित्तीय वर्ष 2015-16 (माह अप्रैल 2015 से माह जनवरी 2016 तक) 25,507

निर्माण श्रमिकों का पंजीयन

प्रदेश में माह जनवरी 2016 तक कुल 24,05,441 निर्माण श्रमिकों का पंजीकरण किया गया है। वर्षवार निम्नवत् हैः-

निर्माण श्रमिकों के पंजीयन का वर्षवार विवरणः-

वित्तीय वर्ष 2009-10 1247
वित्तीय वर्ष 20010-11 71062
वित्तीय वर्ष 2011-12 89378
वित्तीय वर्ष 2012-13 109184
वित्तीय वर्ष 2013-14 819321
वित्तीय वर्ष 2014-15 868352
वित्तीय वर्ष 2015-16 (माह अप्रैल 2015 से माह जनवरी 2016 तक) 446897

भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण उपकर अधिनियम के अंतर्गत कृत कार्यवाही

जनवरी 2016 तक कुल 2255.3करोड़ रुपये की धनराशि सेस के मद में बोर्ड के खाते में जमा हो चुकी है। वर्षवार विवरण निम्नवत् हैः-

वित्तीय वर्षवार उपकर की धनराशि का विवरण

वित्तीय वर्ष 2009-10 0.16 करोड़
वित्तीय वर्ष 20010-11 103.32 करोड़
वित्तीय वर्ष 2011-12 281.92 करोड़
वित्तीय वर्ष 2012-13 334.07 करोड
वित्तीय वर्ष 2013-14 449.60 करोड़
वित्तीय वर्ष 2014-15 569.34 करोड़
वित्तीय वर्ष 2015-16 (माह अप्रैल 2015 से माह जनवरी 2016 तक) 516.86 करोड़


क्र०सं० योजना का नाम हितलाभ की धनराशि
1. मातृत्व हितलाभ योजना मातृत्व हितलाभ योजना के अन्तर्गत अब तक(जनवरी 2016) कुल 28163 लाभार्थी श्रमिक है तथा कुल रू 10,40,29,500/- की धनराशि व्यय की गई है।
2. शिशु हितलाभ योजना शिशु हितलाभ योजना के अन्तर्गत अब तक(जनवरी 2016) कुल 46351 लाभार्थी श्रमिक है तथा कुल रू 41,15,53,500/- की धनराशि व्यय की गई है।
3. मृत्यु एवं विकलांगता सहायता योजना मृत्यु एवं विकलांगता सहायता योजना के अन्तर्गत अब तक(जनवरी 2016) कुल 522 लाभार्थी श्रमिक है तथा कुल रू 17,22,01,000/- की धनराशि व्यय की गई है।
4. मेधावी छात्र पुरस्कार योजना मेधावी छात्र पुरस्कार योजना के अन्तर्गत अब तक(जनवरी 2016) कुल 21190 लाभार्थी श्रमिक है तथा कुल रू 6,06,54,500/- की धनराशि व्यय की गई है।
5. अन्त्येष्टि सहायता योजना अन्त्येष्टि सहायता योजना के अन्तर्गत अब तक(जनवरी 2016) कुल 2663 लाभार्थी श्रमिक है तथा कुल रू 25,68,12,500/- की धनराशि व्यय की गई है।
6. गम्भीर बीमारी सहायता योजना गम्भीर बीमारी सहायता योजना के अन्तर्गत अब तक (जनवरी 2016) कुल 9 लाभार्थी श्रमिक है तथा कुल रू 6,05,357/- की धनराशि व्यय की गई है।
7. बालिका मदद योजना बालिका मदद योजना के अन्तर्गत अब तक (जनवरी 2016) कुल 3785 लाभार्थी श्रमिक है तथा कुल रू 7,29,40,000/- की धनराशि व्यय की गई है।
8. पुत्री विवाह अनुदान योजना पुत्री विवाह अनुदान योजना के अन्तर्गत अब तक(जनवरी 2016) कुल 189 लाभार्थी श्रमिक है तथा कुल रू 66,20,000/- की धनराशि व्यय की गई है।
9. औजार क्रय हेतु आर्थिक सहायता योजना औजार क्रय हेतु आर्थिक सहायता योजना के अन्तर्गत अब तक (जनवरी 2016) कुल 34200 लाभार्थी श्रमिक है तथा कुल रू 6,07,59,557/- की धनराशि व्यय की गई है।
10. सौर ऊर्जा सहायता योजना सौर ऊर्जा सहायता योजना के अन्तर्गत अब तक (जनवरी 2016) कुल 61915 लाभार्थी श्रमिक है तथा कुल रू 28,50,98,690/- की धनराशि व्यय की गई है।
11. आवास सहायता योजना आवास सहायता योजना के अन्तर्गत अब तक (जनवरी 2016) कुल 222 लाभार्थी श्रमिक है तथा कुल रू 70,90,000/- की धनराशि व्यय की गई है।
12. साइकिल सहायता योजना साइकिल सहायता योजना के अन्तर्गत अब तक(जनवरी 2016) कुल 327736 लाभार्थी श्रमिक है तथा कुल रू87,02,25,490/- की धनराशि व्यय की गई है।
13 सचल पालना गृह योजना सचल पालना गृह योजना के अन्तर्गत अब तक(जनवरी 2016) कुल रू 48,75,95,551/- की धनराशि व्यय की गई है।
14 आवासीय विद्यालय योजना आवासीय विद्यालय योजना के अन्तर्गत अब तक(जनवरी 2016) कुल रू 13,33,69,301/- की धनराशि व्यय की गई है।


वित्तीय वर्ष 2015-16 में बोर्ड द्वारा प्रस्तावित योजनाएं

  1. संत रविदास शिक्षा सहायता योजना - इस योजना का उद्देश्य पंजीकृत निर्माण श्रमिकों के अधिकतम दो बालक एवं बालिकाओं को कक्षा 1 से प्रारंभ कर उच्चतर शिक्षा हेतु छात्रवृत्ति सहायता हेतु प्रदान किया जाना है।इसके अन्तर्गत देय हितलाभ रू0 100/- से लेकर रू0 5000/- तक निर्धारित किया गया है।
  2. राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना-इस योजना का उद्देश्य पंजीकृत निर्माण श्रमिक एवं उनके परिवार को स्वास्थ्य सम्बन्धी सुरक्षा प्रदान करना है। इस योजना के अन्तर्गत कैशलेस ईलाज की सुविधा रू0 50,000/- तक अस्पताल में भर्ती होने पर तथा विशिष्ट बिमारियों के लिए रू0 2.50 लाख से 5 लाख तक दिये जाने का प्राविधान है।